ताऊ किसी दूसरे पर तोहमत नही लगाता-अपनी खिल्ली उडाकर ही हास्य के रुप मे व्यंग करता है-रामपुरिया जी

22 comments
नाम रुपात्मक दृश्य जगत मे प्रत्येक पदार्थ अपना यथार्थ नाम या शब्द खोजता है और उसकी स्थापन करता है। शब्द व्यक्ति या वस्तु को पहचान देता है तो अर्थ प्रतिष्ठा देता है। शब्द ,अर्थ, और व्यक्ति तीनो समरुपता कठीन अवश्य है, असम्भव नही। इस प्रतिष्ठित अर्थ के जगत मे एक ऐसा अर्थ जिसके अस्तित्व, कतृत्व एवम व्यक्तित्व  को उजागर करता है। एक शब्द "ताऊ"। हॉ ताऊ ऐसा व्यक्तित्व है, जिसके नाम और अर्थ मे कोई दुरी नही ।

प्रश्न है ताऊ कोन ?  ताऊ वह जिसकी अन्तदृष्टि जागृत हो, जिसकी सोच साकारात्मक हो, जिसका दृष्टिकोण विधायक हो, जिसका जीवन सहता, सरलता का समन्वित रुप हो, जिसका अशन और आसन नियन्त्रित हो।जिसने लोगो के दिलो पर विजय प्राप्त कर ली हो, जिसकी लिखाई नियन्त्रित एवम सधी हुई हो एवम भाषा लोक=लुभावनी हो।

ताऊ वस्तुतः ताऊ है क्यो कि उनका अस्तित्व इन सारे रहस्यो का समवाय है। ताऊ एक विचार धारा है, पर उनके रुप अनेक है कभी वे विचारो को यूगीन भाषा मे प्रतुति देते नजर आते है, कभी वे मग्गा बाबा के रुप मे भाष्यकार बनकर उभरते है,  कभी उन मे से हरियाणवी भाषा  मुखरित होती है, तो कभी वे हिन्दी भाषा के वाग्मी सन्त बन जाते है। कभी एक अर्थशाश्त्री के बतौर नजर आते हैं। कभी ताऊ अपनी मेड-इन-जर्मन लठ की हुल्ल पट्टी देते हुऍ दिखाई देते है, कभी नटवरलाल तो कभी चाणक्य रुप, कभी महात्मा बाबा तो कभी लुटायत,  बाप रे बाप ताऊ है या फैन्टम, स्पाईडर मैन है या चाचा चोधरी।


हिन्दी चिठ्ठा जगत मे ताऊ कोई परिचय का मोहताज नही। ताऊ, ने सबसे पहली पोस्ट May 22, 2008 को लिखी, तब से  १६ महिनो के अपने ब्लोगिग सफर मे ४१९ पोस्टो मे १५ हजार कमेन्ट के साथ हजारो पाठको के दिल मे जगह बनाने मे कामियाब हुऍ। ताऊ की इस सफलता के पिछे सिर्फ एक ही एक कारण स्पष्ट दिखलाई पडता है- वो है- ताऊ के चरित्र को जी रहे श्री पी.सी.रामपुरियाजी (मुदगल) का अथक परिश्रम, चिठ्ठाकारिता के प्रति लगन, एवम समय के पाबंद।

"ताऊ डाट इन" ने हिन्दी चिठठाकारी को एक नई पहचान दी।  ताऊ डाट ईन से प्रोत्साहीत होकर सैकडो लोग हिन्दी चिठठाकारी की और आकर्षित हुऍ। बहुत से चिठ्ठो पर तो ताऊ के विभिन्न "किस्से-कहानियो" की श्रृखलाए शुरु हो गई। "अरे बावलीबूच".. ताऊ का तकिया कलाम डायलॉग तो जन-जन के मुह पर है।


ताऊजी की प्रसिद्धि के अनेक कारणो मे एक मुख्य  कारण यह भी है- इनका मोलिक लेखन एवम बोलचाल की भाषा। लेखन शैली इतनी पैनी है की पाठको को एक बार मे ही आकर्षित कर लेती है, पाठक को लगता है कि वो स्वय उस पात्र को जी रहा है। लोग  पढकर अपनी जीवन की धारा को मोड लेते है।


जब ताऊ लिखता है तो लगता है कोई अपने आसपास होने वाली घटनाक्रम को देख रहा है, उसे महसुस किया जा सकता है। एक ताऊ बडा ही मनोविज्ञानिक मानव मन की समस्याओ की गुत्थि को बडे ही विनोदी स्वभाव से सुलझा रहा है। सचमुच  ताऊ जैसा चरित्र शताब्दियो मे कोई एक ही होता है। ताऊ के कर्तृत्व की आभा हिन्दी चिठ्ठाकारी को उजाला देती है।
ताऊ डॉट ईन के
संस्थापक श्री रामपुरीयाजी (ताऊ)  ने अपने लेखन कर्तृत्व से जो रोशनी बिखेरी,वह आज सैकडो हिन्दी पाठको, लेखको, के पथ को आलोकित कर रही है।

२२ मई २००८ को ताऊ डाट इन की शुरुआत करने वाले ताऊजी ने हिन्दी ब्लोगिग मे नये उच्छवास भरे, हिन्दी चिठाकारी नई ऊचाईयो को छूने मे सक्षम हो गया। यशस्वी हिन्दी चिठठा जगत ने रामपुरिया जी को "ताऊ" नाम का सम्मान देकर नवाजा।

ब्लोगिग ससार ताऊ ने १६ महिना २५ दिन  ४२१ पोस्ट व १५८०० टिपणियो के माध्यम से अल्पअवधि मे जो ख्याती प्राप्त की यह भी एक हिन्दी ब्लोगिग के इतिहास की विरल घटना है ताऊ पात्र  इतिहास का दुर्लभ दस्तावेज बनेगा इसमे हमे कोई शको-शुब्बा नही होनी चाहिये। ताऊ के बारे मे लिखने बैठे तो शायद इस ब्लोग के पन्ने कम पड जाऍ।

ताऊ की भुमिका का बेखुबी से निर्वाह कर रहे आदरणीय श्री पी.सी.रामपुरिया जी (मुदगल)
जो किसी परिचय के मोहताज नही हैं, आप सभी उनको एक शीर्ष ब्लागर के रूप मे पहचानते हैं। रामपुरिया जी ने हमको एक छोटी सी बातचीत का समय दिया। आपको भी उस बातचीत से रुबरू करवाते हैं।


ताऊ से बातचीत करते हुऐ महावीर बी सेमलानी
सवाल-1;  आप कब से ब्लागिंग मे हैं? आपके अनुभव बताईये? आपका ब्लागिंग मे आना कैसे हुआ?
उत्तर;  सार्वजनिक ब्लागिंग मे १५ / १६ महिने पहिले से. इससे पहले निजी ब्लागिंग (अपने ग्रुप) में सीमित थे.
अनुभव : बहुत ही अच्छे रहे हैं, बस कुछ परदुख: भंजनकारों की कारस्तानी छोड दी जाये तो.  और आटे मे दाल
जितना तो होना जरुरी भी है.:) 


सवाल-2; ब्लोग का नाम "ताऊ" रखने के पिछे आपकी मुल अवधारणा क्या रही ?
उत्तर; - मूल धारणा तो कोई विशेष नही थी...असल मे मैं जिस कंपनी से संबंध रखता हूं वहां के लडके/लडकियां  मेरे  बोलने के अक्खडपन और हरयाणा से संबंध रखने के कारण पीठ पीछे मुझे ताऊ कहते थे...फ़िर जब हिंदी मे ब्लाग लिखना शुरु किया तो उनकी खुशी और इच्छा देखते हुये मैने इसका नाम ही ताऊ डाट इन रख दिया.  और आज भी ब्लागर्स से ज्यादा मेरे पाठक वही हैं. 

सवाल-3;  "ताऊ पत्रिका" के प्रसिद्धि के पिछे कोन सा फ़ेक्टर मुख्य रहा- "ताऊ" नाम  या "ताऊ" कि चारित्रिक,वैचारिक, भुमिका ?
उत्तर : आप किसी एक बात को इसके लिये श्रेय नही दे सकते.  असल मे हम मौलिक रुप मे तो आज भी भारतीय ही हैं...ये जो पश्चिमी संस्कृति का चोगा हमने ओढ रखा है वो अंदर ही अंदर बैचेन करता है...और ताऊ के चरित्र के साथ   इतना आत्मिय रिश्ता असल मे अपनी जडों की और लौटना ही है.  थोडी देर यहां आदमी अपनी ओढी हुई तस्वीर छोड देता है. यहां ताऊ के सामने आदमी अपनी ओरिजिनिलिटी मे आता है...बिल्कुल अपने आपको बच्चा महसूस करके थोडी देर तनाव मुक्त हो जाता है.


सवाल-4;  बहुत ही अल्पसमय मे ~ताऊ~ ब्लोग ने हिन्दी ब्लोग जगत के सारे रिकोर्ड धवस्त कर अपने आप को शिखर पर पहुचा दिया, इस सफ़लता से पाठको की आपसे अपेक्षा बढ गई है, ऎसे मे  आपको नही लगता की अब जिम्मेदारीयो का दबाव अधिक हो गया है ?
उत्तर : आपका कथन कुछ अर्थों मे तो सही है पर इसमे रिकार्ड ध्वस्त करने जैसी कोई खास बात नही है. इस ब्लाग की सफ़लता की असली वजह इसका मौलिक लेखन है. हालांकि चंद लोग इसमे भी नकल देखते हैं.  अगर हम वाकई मौलिक की बात करें तो मेरी समझ मे परमात्मा के अलावा मुझे तो दूसरी कोई मौलिक चीज दिखाई नही देती.  जैसा की मैने अपने प्रोफ़ाईल मे भी लिखा है  कि मैं तो अपने आसपास की घटनाओं मे ही अपने लिखने की सामग्री ढूंढ लेता हूं..बस उस घटना को मैं अपनी   भाषा मे ज्यों का त्यों रख देता हूं..अब इस शैली कॊ लोगों ने पसंद किया है तो मैं उनका शुक्रगुजार हूं.
जहां तक जिम्मेदारियों का सवाल है तो मैं मैं ऐसा कोई कमिटमैंट लेकर नही चलता.  जितना हो सकता है उतना लिखता हूं..मूड नही हो तो नही भी लिखता.

सवाल-5;  ताऊ की भुमिका निभाते निभाते क्या अब आप स्वय को ताऊ समझ बैठे है ?
उत्तर : ना. कतई ना.  जितनी देर लिखता हूं उतनी देर  ताऊ की आत्मा मुझ पर सवार रहती है बाकी तो मैं भी आप लोगों जैसा ही कामकाजी आदमी हूं.

सवाल-6; ताऊ के चरित्र को जीना सरल है या कठीन है ?
उत्तर : अब ये तो मैं नही जानता..पर ताऊ के चरित्र को जीते जीते आदमी सहज जरुर होजाता है. जो एक उपर की ओढी हुई शराफ़त की गंभीर छवि है वो हट जाती है और आदमी निर्भार हो जाता है. 

सवाल-7; : इसको थोडा समझाईये?
ताऊ : देखिये इसमे समझने और समझाने जैसा कुछ नही है.  हर आदमी अपने आपको वो दिखाना चाहता है जो वो है नही.  हर आदमी अपने को शरीफ़ और सामने वाले को बेईमान सिद्ध करने की कोशीश करता है.  यहां ताऊ के चरित्र को देखिये...वो सारी हरकते खुद ही करता है..यानि चोरी, बेइमानी, डकैती..मुर्खता खुद ही करता है.  यानि वो सारी चोट खुद पर करते हुये ही व्यंग करता है और यही स्टाइल पब्लिक पसंद करती है.
ताऊ किसी दूसरे पर तोहमत नही लगाता....अपनी खिल्ली उडाकर ही हास्य के रुप मे व्यंग करता है. 

सवाल-8; : ये खुद की खिल्ली उडाना कहां से सीखा?
उत्तर : ये कोई सीखने की चीज नही है. बस इतना कहुंगा कि समीरलाल जी को इस विधा का माहिर मानता हूं...उनके लेखन को बारीकी से पढने के बाद मैने इस लीक पर चलना शुरु किया.

सवाल-9; : क्या ये व्यंग लोग समझ पाते हैं?
उत्तर : हां ज्यादातर लोग बहुत ही स्पष्टता से समझते हैं और यही उनको बार बार यहां खींच लाता है. पर कुछ सिरफ़िरे या तथाकथित गंभीरता का खोल ओढे बैठे कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इसे लफ़्फ़ाजी कहते हैं..पर मैं तो उन्हें भी धन्यवाद ही देता हूं कि उन्हे कुछ तो लगा? उनका ध्यान तो खींचने मे सफ़ल हुआ.  

सवाल-10; क्या घर वाले, दोस्त, रिस्तेदार भी आपको ताऊ नाम से पुकारते है ?
उत्तर : ना जी. कोई पहचानता नही इस नाम से. ताऊ सिर्फ़ ब्लाग जगत से ताल्लुक रखता है. बाकी मेरी निजी जिंदगी ताऊ से बिल्कुल जुदा है. बाकी आजकल ताऊ की बेफ़िक्री कभी कभी अपने उपर आजमाता हूं तो बडा सहज महसूस करता हूं एकदम भारहीन.

सवाल-11; ताऊ की बात चल रही है और रामप्यारी की बात नही चले तो बात अधूरी रह जाऎगी. आप तो यह बताऎ रामप्यारी का "ताऊ के हिट" होने मे कितना योगदान है क्या ताऊ को रामप्यारी की लोकप्रियता से डर नही लगता ?
उत्तर :  जहां तक हिट होने का सवाल है तो जब कोई चरित्र पापुलर हो जाता है तो उसको इस कोण से देखा जाता है. पर वास्तविकता तो यही है कि दोनों एक दूसरे के पूरक हैं.  दोनों ही चरित्र अब तो एक द्सरे मे समा गये हैं.  एक को याद करते ही दूसरे का चित्र आंखों के सामने आजाता है.  


सवाल-12; कुछ भ्रान्तिया है की ब्लोगिग दाऎ बाऎ हाथ का खेल है, लिखा, छापा और हो गई ब्लोगिग, इस पर आपकी प्रतिक्रिया अहम है. क्या इस धारणा के साथ नियमित ब्लोगिग की जा सकती है ?
उत्तर : बात  आपने बडे सलीके की पूछी है.  आप ऐसा कर सकते हैं इसमे क्या अडचन है? पर सवाल ये है कि आप कितने दिन ऐसा कर पायेंगे?  जब तक आप दूसरों को नही पढेंगे.. आप उन पर अपनी प्रतिक्रिया नही देंगे..तब तक कोई आपके लिखे पर प्रतिक्रिया नही देगा. यानि ये पूरी तरह से शादी का लिफ़ाफ़ा है. तो ब्लागिंग के मायने सबके लिये अलग अलग हैं. 
आप लिखकर छोड गये..प्रतिक्रिया से कोई मतलब नही तो शायद ये ब्लागिंग नही हुई. क्योंकि यह दुतरफ़ा संवाद की सुविधा है लेखक और पाठक के मध्य. निजी रुप से मैं इसे परस्पर संवाद का माध्यम मानता हूं.

सवाल-13; आपने इतने कम समय मे १५००० हजार टिप्पणियां प्राप्त की हैं जो की अपने आप मे कीर्तिमान ही है. ज्यादा टिप्पणीयो के कारण प्रसन्नता होना स्वाभाविक  है, पर   क्या कम टिप्पणीयो ने कभी आपको विचलित किया ?
उत्तर : शुरु मे तो टिप्पणीयां आती ही नही थी. और मालूम ही नही था कि इस तरह से कुछ टिप्पणीयां भी की जाती हैं. हम लोग तो पोस्ट लिखकर सब लोग   आपस मे फ़ोन पर गप्पे लगाते थे. फ़िर एक रोज कहीं से उडनतश्तरी जी कहीं से प्रकट हुये...मेल आया कि ताऊ क्या नाराजी है? कमेंट करना तो अलाऊ करिये..तब जाकर कहीं टिप्पणीबाजी मे पडे.

सवाल-14; हिन्दी ब्लोग जगत मे आप किसे ? एवम कैसे विषय को सबसे ज्यादा पढना पसन्द करते है?
उत्तर : अगर आप मुझसे यह पूछें कि कौन  ब्लागर  मेरा पसंदीदा लेखक है? तो बिना सोचे कहुंगा अनूप शुक्ल फ़ुरसतियाजी, निसंदेह मुझे उनका लिखा पढना कम और बात करना ज्यादा लगता है. उनकी लेखन शैली का मुरीद हूं. 


सवाल-13; क्या आप पहले अग्रेजी मे ब्लोग लिखते थे ? अग्रेजी ब्लोग की सफ़लताहिन्दी ब्लोग की असफ़लता, क्या सफ़लता-असफ़लता का मुख्य कारण भाषा को मानते है.?
उत्तर : हां जब हमको मालूम नही था कि हिंदी भी लिखी जा सकती है नेट पर तब तक सारी गप्प गोष्ठियां हम अंग्रेजी मे ही करते थे पर सार्वजनिक रुप से.  अब जहां तक भाषा का सवाल है तो इसमे कोई दो राय नही है कि आज भी अंग्रेजी की पहुंच बहुत बडी है. अगर हमको हिंदी के लिये ये ख्वाब देखने हैं तो बहुत लंबा रास्ता तय करना है. और सभी लोग लगे हुये भी हैं. थोडा समय तो लगेगा पर मुझे यकीन है कि एक रोज हम मंजिल अवश्य पा जायेंगे.

सवाल-14; ब्लोगिग सफ़र मे किसे सफ़ल,  किसे असफ़ल कहेगे ? इसका कोई पैमाना है क्या ?
उत्तर : ब्लागिंग क्या? जीवन मे किसी चीज के कोई तय पैमाने नही हैं. एक भिखारी सुबह  मंदिर मे भगवान से  अपने लिये १०० रुपये की मजदूरी आज मिल जाये इस कामना के साथ दर्शन करने जाता है वहीं एक सेठ सुबह इसलिये दर्शन करने जाता है कि आज उसे २५/५० लाख का मुनाफ़ा होजाये? यही बात ब्लागिंग मे है...आप स्वयम अपने लिखे से  कितने संतुष्ट हैं? और पैमाना आप स्वयम ही तय कर सकते हैं. 

धार्मिकता एवम आध्यात्मिकता भी आपके पसन्द के प्रमुख विषयो मे से एक है मग्गबाबा चिठ्ठे द्वारा नियमित इस तरह के विषयो पर अपने विचारो का सम्प्रेषण आप करते रहे है- 

प्रशन=15; धर्म क्या है ?
उत्तर : मेरे लिये धर्म एक जीवन शैली का नाम है. निजी रुप से प्रचलित धर्म के तरीके मैं नही मानता. या युं कहले कि धर्म सबकी अपनी निजता है. 

सवाल-16; क्या आप धर्म को बुद्धिगम्य मानते है या श्रद्धागम्य ?
उत्तर : धर्म को पहले बुद्धिगम्य मानना होगा अगर आपकी बुद्धि को यह रास्ता समझ आगया तो श्रद्धा तो उसकी परिणीति है जो हो ही जायेगी. उसके बाद कुछ करना नही होगा. जो होगा स्वत: होगा.

सवाल-17; क्या धर्म सम्प्रादायिकता मे अटक गया है ?
उत्तर : नही सिर्फ़ राजनितिज्ञों तक. एक आम नागरिक  को इससे कुछ भी लेना देना नही है. इन चंद नेताओं को गोली मार दिजिये फ़िर देखिये कि यह सवाल उठता है या नहीं

सवाल-18;  भगवान महावीर, एवम भगवान बुद्ध के सन्देशो मे काफ़ी समानताऎ है- ऎसे मे आजके युग मे दोनो कितने प्रासगिक है?
उत्तर : महावीर और बुद्ध कभी भी अप्रासंगिक नही हुये और ना कभी होंगे.  इन दोनो के जीवन मे ही एक उंचाई आई जहां से लौटना मुमकिन नही था. बस सब कुछ त्याग दिया. और यह स्वाभाविक है.  आज बिल गेट्स ने क्या किया? उन्होने भी सब कुछ त्याग दिया. क्या वो महावीर या बुद्ध के अनुयायी थे? नही ना? मेरी निगाह मे आप महावीर और बुद्ध  को किसी धर्म विशेष से नही बांध सकते. पूरी मानवता ही उनके बताये मार्ग पर स्वत: ही चलती है. हां शर्त सिर्फ़ इतनी है कि वो अवस्था आनी चाहिये. 

सवाल-20; तेरापन्थ के आचार्य महाप्रज्ञजी को अगर आपने कभी पढा हो, दर्शन  किऎ  हो, तो उनके बारे मे अपने विचार दे.
उत्तर : आचार्य जी के बारे मे पढने या मुलाकात का सौभाग्य नही मिला. जो कुछ भी पढा वो आपके माध्यम से ही पढा अत: इस बारे में कुछ भी कहना मेरे लिये बडा अनुचित होगा

ताऊजी, आपने अपना कीमती समय हमे दिया आपका बहुत बहुत धन्यवाद।
धन्यवाद की कोई बात नही है महावीरजी! जब आप, मुम्बई से इन्टव्यू के लिऐ यहॉ तक आगऐ तो हमे समय तो देना ही था।

विशेष सुचना- हमारे सहवर्ती पहेलियो के ब्लोग SELECTION & COLLECTION मे पहेली क्रमाक 9 मे ताऊ से सम्बन्धित एक सवाल करा गया। इसी उपलक्ष मे ताऊ की यह मुलाकात उनके निवास स्थान पर कि गई। चुकी नियमाअनुशार उपरोक्त बातचित सलेक्शन और कलेकशन पर  बुधवार को प्रसारित होनी थी किन्तु  तकनिकी कारणो से इसे "मुम्बई टाईगर" पर प्रसारित कर रहे है जिसका अनुमोदन हमारे अन्य चिठ्ठे " हे प्रभू यह तेरापन्थ"- एवम सलेक्शन और कलेक्शन सहर्ष प्रसन्ता पुर्वक कर रहे।

विशेष इसी कडी मे ताऊ कोन ? एक खबर के मुताबिक ताऊ को विभिन्न रुपो मे देखा गया। कभी मनुष्य के रुप मे, तो कभी वानररुप मे। ऐसी किदवंतिया  है कि ताऊ के अनेक रुप है-रंग है। ताऊ कोन ? इस पर हम विभिन्न चिठाकारो के पुर्व मे दिऐ व्यक्तव्यो  को क्रमश: भाग-2 को एक दो दिन मे प्रसारित करने जा रहे है।
सम्पादक मण्डल
हे प्रभू यह तेरापन्थ

22 comments

Udan Tashtari 17 अक्तूबर 2009 को 6:16 am

ताऊ वह जिसकी अन्तदृष्टि जागृत हो, जिसकी सोच साकारात्मक हो, जिसका दृष्टिकोण विधायक हो, जिसका जीवन सहता, सरलता का समन्वित रुप हो, जिसका अशन और आसन नियन्त्रित हो।जिसने लोगो के दिलो पर विजय प्राप्त कर ली हो, जिसकी लिखाई नियन्त्रित एवम सधी हुई हो एवम भाषा लोक-लुभावनी हो।

-आज तो ताऊ इन्टरव्यू के लिए बड़ा सज धज कर आया है. रामप्यारी नहीं आई साथ नई फ्राक पहन कर चॉकलेट खाते हुए. :)

-पीठ पीछे मुझे ताऊ कहते थे...फिर तो मेरे ब्लॉग का नाम गणेश जी होना था. :)

-परमात्मा के अलावा मुझे तो दूसरी कोई मौलिक चीज दिखाई नही देती. -बहुत खूब कहा ताऊ ने..यही बातें तो दीवाना बना देती हैं ताऊ का.

-ताऊ किसी दूसरे पर तोहमत नही लगाता....अपनी खिल्ली उडाकर ही हास्य के रुप मे व्यंग करता है. -सबसे बेहतरीन तरीका यही है...समीर लाल को श्रेय देने के लिए आभार कहूँ क्या ताऊ. :)

-मतलब टिप्पणीबाजी में हमने फंसाया और आप हमीं को टिप्पणी के स्कोर में टंगड़ी मार गये..क्या जमाना आ गया है. :)

-अनूप शुक्ल के लेखन के और उनके तो हम शुरु से ही मुरीद हैं.

-अंत में, ताऊ को जानने के बावजूद यहाँ फिर से ऐसे जानकर आनन्द आ गया. जय हो महावीर जी की इस साक्षात्कार के लिए..



-दिवाली मुबारक!!

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi 17 अक्तूबर 2009 को 8:24 am

ताऊ! का यह साक्षात्कार ब्लाग जगत के लिए दीवाली का बहुत सुंदर उपहार है।
आप को दीपावली पर बहुत बहुत शुभकामनाएँ, और ताऊ को भी परिवार सहित शुभकामनाएँ।

अविनाश वाचस्पति 17 अक्तूबर 2009 को 10:00 am

खिल्‍ली उड़ाना कोई पतंग उड़ाना नहीं है
जब चाहे उड़ा ली
किसी और की उड़ाना आसान है
अपनी खुद की उड़ान सरल नहीं है
ये वो पतंग नहीं है दूसरे की
जब चाहे काट दी
न दूसरे की पतंग लूटना आसान है

इतना यातायात रहता है सब तरफ
अपने को पहचानना कठिन यही हैं
लोग मानते तो हैं आपको सभी
पर जानना सभी को आसान नहीं है

ब्‍लॉगिंग नहीं है जॉगिंग विचारों की
न रैगिंग कुछ खिलंदड़बाजों की
प्रत्‍येक के लिए आसान नहीं है
अनेक रहते हुए नेक रहना
सफलता का यही है गहना।

खुली बातचीत बेहद पसंद आई। दीपावली के दिन मन को तरावट से भरपूर कर गई।

Mishra Pankaj 17 अक्तूबर 2009 को 10:21 am

आपने सही बात कहा है सेमलानी जी  ताऊ जी हमेशा अपने खुद की हँसी उडाते है और अगर उनको अपने को ही अच्छा दिखाना होता तो ताऊ की शोले में वो खुद जय,बीरू या गब्बर बन जाते लेकिन संभा बनके रह गए ...
ताऊ जी के इस व्यक्तिगत आपने सही बात कहा है सेमलानी जी  ताऊ जी हमेशा अपने खुद की हँसी उडाते है और अगर उनको अपने को ही अच्छा दिखाना होता तो ताऊ की शोले में वो खुद जय,बीरू या गब्बर बन जाते लेकिन संभा बनके रह गए ...
ताऊ जी के इस व्यक्तिगत आपने सही बात कहा है सेमलानी जी  ताऊ जी हमेशा अपने खुद की हँसी उडाते है और अगर उनको अपने को ही अच्छा दिखाना होता तो ताऊ की शोले में वो खुद जय,बीरू या गब्बर बन जाते लेकिन संभा बनके रह गए ...
ताऊ जी के इस व्यक्तिगत सोच को मै सलाम करता हु ...
और आपको आभार ऐसे व्यक्तित्व वाले ताऊ जी के बारे में कुछ नयी बाते  लिखने की
को मै सलाम करता हु ...
और आपको आभार ऐसे व्यक्तित्व वाले ताऊ जी के बारे में कुछ नयी बाते  लिखने की
को मै सलाम करता हु ...
और आपको आभार ऐसे व्यक्तित्व वाले ताऊ जी के बारे में कुछ नयी बाते  लिखने की

अल्पना वर्मा 17 अक्तूबर 2009 को 12:46 pm

महावीर जी आप को और आप के परिवार में सभी को दीवाली की शुभकामनायें.

नया कलेवर अच्छा है..पहले आप के ब्लॉग का पेज लोड नहीं हो पाता था .अब यह नया रूप बहुत अच्छा है.बधाई.
ताऊ जी का साक्षात्कार बहुत ही अच्छा लगा..हिंदी ब्लॉग जगत में वह एक हस्ताक्षर हैं.
इतने कम समय में उनकी बढती लोकप्रियता ही उनके सशक्त व्यक्तित्व की पहचान है.
आप का आभार उनसे रूबरू करवाने के लिए.

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" 17 अक्तूबर 2009 को 2:11 pm

आपके जीवन में आने वाला हर क्षण / हर दिन आलोकित हो ! सुखसमृद्धि से परिपूर्ण हो ! आपको सपरिवार दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !

ताऊ एज ए ग्रेट मैन:)

दर्पण साह "दर्शन" 17 अक्तूबर 2009 को 2:30 pm

Aaj aaiya oont pahad ke neeche...
...Bada doosron ka interview lete firte the na? Tau !!

Accha tau ek gana banaya hai thare vaste , latest copyright act ke tahat (to copy is our right):
Aaja tau sang main ni....

Naacheinge jee bahr ke !


Sabhi logon ko bahtije ki ghani raam raam.

aapka din mangal may ho...
Diwali Dhanteras Evm bhjaiiya dooj ki hardik shubh kamnaiyen.

नितिन | Nitin Vyas 17 अक्तूबर 2009 को 2:42 pm

ताऊ जी से मुलाकात बहुत पसंद आई!
आप सभी को दीवाली की ढेर सारी शुभकामनायें.

राज भाटिय़ा 17 अक्तूबर 2009 को 3:23 pm

बहुत सुंदर परिचाय दिया आप ने ताऊ का , बहुत अच्छा लगा. धन्यवाद
वेसे तो ताऊ का मतलब बाप का बडा भाई होता है, ओर जब दोस्तो मै या किसी को चिढाना हो तो उसे भी ताऊ कह देते है, या फ़िर किसी की खिल्ली उडाने के लिये भी ताऊ बोलते है, लेकिन ताऊ ने खिल्ली उडाने वालो की ही खिल्ली उडा दी.
धन्यवाद
आप सब को दिपावली की शुभकामनये

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 17 अक्तूबर 2009 को 9:23 pm

यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।
युग सदा विज्ञान का, चलता रहेगा।।
रोशनी से इस धरा को जगमगाएँ!
दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

anitakumar 17 अक्तूबर 2009 को 11:37 pm

ताऊ जी के लेखन, सोच और ब्लोगिंग की ऊर्जा से हम भी प्रभावित हैं। अनूप शुक्ल जी हमारे भी पसंदीदा ब्लोगर हैं, ताऊ की तरह हम भी अनूप जी की लेखन शैली के मुरीद हैं और समीर लाल जी तो है ही ब्लोग जगत की शान।

अनूप शुक्ल 18 अक्तूबर 2009 को 9:06 am

आज की बारात के दूल्हा ताऊजी की जय हो। ताऊ कई शताब्दियों के क्यूट कोलाज लग रहे हैं। अच्छा किया कि रामप्यारी साथ नहीं आईं वर्ना फ़िर ताऊ को कौन देखता/सुनता/पढ़ता।

ताऊ का इंटरव्यू धांसू रहा। टिप्पणियां के अलावा और तरह के रिकार्ड बनाते ताऊ इकबाल बुलंद रहे। ताऊ को अपना मग्गाबाबा का आश्रम वीरान नहीं करना चाहिये। २९ जून से वहां दिया नहीं जला।

हमारा लेखन पसंद करने की बात कहकर ताऊ और तदोपरान्त समीरलाल जी ने हमें मारे शरम के लाल कर दिया।

दीवापली के बचे पटाखों की तरह दीपावली का बचा हुआ हिस्सा मुबारक हो।

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` 18 अक्तूबर 2009 को 9:16 am

Tau ji se aapki baat chit bahut pasand aayee

Abhee abhee Jain Center se Deepawali ka kaarykram mana ker lautee hoon

Fir bhee ye adbhut SAKSHATKAAAR padh ker , tippani kiye bina raha nahee gaya --

Tau ji ne sach kaha -
- SIRF ISHWAR HEE MAULIK HAIN

Aapke samast PARIVAAR ko Diwali ki Hardik Badhayee --

Bahut Sunder post JAI JINENDRA

sadar, Sa - sneh,
- Lavanya

अजय कुमार झा 18 अक्तूबर 2009 को 10:55 am

ताउ ने ब्लोग्गिंग में लोकप्रियता के नए पैमाने गढ दिय हैं...और कैसे और क्युं ये आज पता चल गया। बहुत बढिया साक्षात्कार रहा सेमलानी जी। ताऊ से रूबरू करवाने का आभार ।

डा० अमर कुमार 18 अक्तूबर 2009 को 6:15 pm


यह तो सच है कि, ताऊ को मैं भी उतना ही पसँद करता हूँ, जितना कोई अन्य न करता होगा ।
शुरुआती दिनों में नियमित टिप्पणी देने के बावज़ूद अब मैं उन्हें टिप्पणी देने में उतना सहज नहीं रह पाता ।
ताऊ बोले तो एक निडर और चतुर हरयाणवी चरित्र, इसके उलट एप्रूवल बोले तो खुलेपन का अभाव !
दोनों में विरोधाभास है । उनकी ब्लागिंग के प्रारँभिक दिनों में किन्हीं मैडम ने उनकी भाषा पर आपत्ति कर दी,
दुखी ताऊ मैदान छोड़ने का मन बनाने को हुये, मैंनें उन्हें एक लम्बी टिप्पणी दी, जिसमें थोड़ी फटकार भी थी ।
ताऊ वापस खूँटे पर आ खड़ा हुआ । निसँदेह ताऊ को आज इस मुकाम पर देख खुशी होती है, उनकी विनोदप्रियता लुभाती है ।
आज वह एक मिथक के रूप में लार्ज़र दैन ब्लागर बन कर उभरे हैं ।

premlatapandey 18 अक्तूबर 2009 को 8:34 pm

बहुत अच्छा साक्षात्कार।
- ’ताऊ’ चरित्र की उपलब्धि लेखन की रोचकता, ईमानदारी और पाठक की पसंद की पकड़ है जो सभी को पढ़ने की ओर खींचती है।
- हास्य और गहरी बात का संगम है ताऊ की शैली।
- अल्पनाजी से सहमति ’ हिंदी ब्लॉग जगत में वह एक हस्ताक्षर हैं. ’

शुभकामनाएँ!

काजल कुमार Kajal Kumar 18 अक्तूबर 2009 को 11:56 pm

अच्छा लगा पढ़कर...अभी तक तो दूसरे ही ताऊ के उस्तरे के नीचे आते थे...

सतीश सक्सेना 19 अक्तूबर 2009 को 9:25 am

ताऊ के चरित्र ने निस्संदेह ब्लाग जगत में अद्वितीय नाम कमाया है , जिसका श्रेय पी .सी .रामपुरिया की शक्तिशाली लेखनी और शानदार विचारों को जाता है ! मेरे ऊपर जिन चंद लोगों ने अपनी छाप छोडी है, उनमे ताऊ शामिल हैं !
इस स्नेह शील व्यक्तित्व के लिए मेरी शुभकामनायें, और मुझे पूरी आशा है की भविष्य में भी नवोदितों का उत्साह वर्धन करते रहेंगे !
ताऊ पर लिखने के लिए आपका शुक्रिया !

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) 19 अक्तूबर 2009 को 2:29 pm

वाह .. ताऊ जी के बारे में इतना विस्तार से जानने को मिला.. आभार

हैपी ब्लॉगिंग

संगीता पुरी 20 अक्तूबर 2009 को 7:56 am

आपके माध्‍यम से ताउ के बारे में इतना जानने को मिला .. आपका बहुत बहुत धन्‍यवाद .. हिन्‍दी ब्‍लाग जगत में छाए रहने के लिए ताउ को शुभकामनाएं !!

M.A.Sharma "सेहर" 21 अक्तूबर 2009 को 1:40 pm

ताऊ जी के व्यक्तित्व का ये रूप. बहुत अच्छा लगा पढ़कर....इंसान का हास्य को पेश करना अपने पर व्यंग करके....बहुत कम ही लोग ही कर पातें हैं ..
ताऊ इक नाम है इक व्यक्तित्व है जो दूसरों की ख़ुशी में ही अपनी ख़ुशी ढूढ लेते हैं ...आज की व्यस्त ज़िन्दगी में भी समय निकाल कर ब्लॉग जगत में इतना कुछ कर पाना नमन है आपको ताऊ जी !!
आप का भी बहुत आभार इस मुलाकात karane के लिए !

दिगम्बर नासवा 22 अक्तूबर 2009 को 4:05 pm

ताऊ के व्यक्तित्व, उनके विचार और उनके बारे मि जान कर बहुत अच्छा लगा .......... उनकी फोटो भी देखने को मिल जाती तो मज़ा आ जाता पर कोई बात नहीं ...........