भारतीय होने की निष्ठा

3 comments
" मुझे यह यह अच्छा नही लगता , जब कुछ लोग कहते है की हम पहले भारतीय है और बाद में हिंदू अथवा मुसलमान या जैन,अथवा सिख , ईसाई है मुजे यह स्वीकार नही हैधर्म , संस्क्रती, भाषा तथा राज्य के प्रति निष्ठा से ऊपर है भारतीय होने की निष्ठामेरा एसा मानना है की लोग पहले भी भारतीय हो अंत तक भारतीय रहे -भारतीय के अलावा कुछ नही ." -हे प्रभू तेरा-पथ

3 comments

नारदमुनि 19 मार्च 2009 को 3:41 pm

saty vachan balak, narayan narayan

संगीता पुरी 19 मार्च 2009 को 11:35 pm

बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

vandana 22 अप्रैल 2009 को 12:08 pm

bahut badhiya..........sabse pahle bhartiya hona jaroori hai................hum janam se bhi bhartiya hain aur mrityuparyant bhartiya hi rahenge.yeh atal satya hai.